ऑस्ट्रेलियन ओपनः अमेरिका की सोफिया केनिन ने  का महिला सिंगल्स का खिताब जीता


मेलबर्न। 21 साल की सोफिया कीनन ऑस्ट्रेलियन ओपन की नई चैंपियन बन गई हैं. अमेरिका की इस खिलाड़ी ने साल का पहला गैंडस्लैम टूर्नामेंट जीत लिया है. सोफिया केनिन  ने ऑस्ट्रेलियन ओपन के फाइनल में स्पेन की गार्बाइन मुगुरुजा  को हराकर खिताब पर कब्जा किया। यह उनके करियर का पहला ग्रैंडस्लैम खिताब है। ऑस्ट्रेलियन ओपन  के महिला सिंगल्स का फाइनल शनिवार को मेलबर्न में खेला गया. इसमें 14वीं वरीयता प्राप्त सोफिया केनिन का मुकाबला गैरवरीयता प्राप्त गार्बाइन मुगुरुजा के साथ हुआ. दोनों ही खिलाड़ी पहली बार किसी ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंची थीं. दोनों के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिली। 


मैच का पहला सेट पूर्व नंबर-1 गार्बाइन मुगुरुजा ने जीता. लेकिन वे अगले दो सेट में अपनी लय बरकरार नहीं रख सकीं। दूसरी ओर, सोफिया केनिन ने जबरदस्त वापसी करते हुए ना सिर्फ अगले दो सेट जीते, बल्कि मैच भी अपने नाम कर लिया. उन्होंने यह मुकाबला 4-6, 6-6-2, 6-2 से जीता। सोफिया को खिताबी मुकाबला जीतने के लिए दो घंटे तीन मिनट तक संघर्ष करना पड़ा। सोफिया केनिन 2002 के बाद यह खिताब जीतने वाली सबसे कम उम्र की अमिरकी महिला खिलाड़ी हैं. उनसे पहले 2002 में जब सेरेना विलियम्स ने यह खिताब जीता था, तब उनकी उम्र 20 साल सात महीने की थी. 1998 में जन्मी सोफिया 2017 में ही प्रोफेशनल खिलाड़ी बनी हैं। 


26 साल की गार्बाइन मुगुरुजा की हार के साथ ना सिर्फ उनका, बल्कि स्पेन का भी सपना टूट गया। ऑस्ट्रेलियन ओपन के इतिहास में स्पेन के एक भी खिलाड़ी ने महिला सिंगल्स का खिताब नहीं जीता है. मुगुरुजा के पास यह अनचाहा रिकॉर्ड तोड़ने का मौका था. उनके पास ऑस्ट्रेलियन ओपन जीतने वाली पहली स्पेनिश महिला बनने का मौका था, लेकिन वे इसे गंवा बैठीं। गार्बाइन मुगुरुजा ऑस्ट्रेलियन ओपन के सिंगल्स फाइनल में पहुंचने वाली तीसरी स्पेनिश खिलाड़ी हैं। उनसे पहले अरांचा सांचेज विकारियो और कोंचिता मार्तिनेज भी ऑस्ट्रेलियन ओपन के फाइनल में पहुंची हैं। हालांकि, इन तीनों ही खिताबी जीत से दूर रह गईं. अरांचा सांचेज विकारियो 1994 और 1995 में फाइनल हार गई थीं. कोंचिता मार्तिनेज को 1998 में हार का सामना करना पड़ा था। 


जी न्यूज हिन्दी से आभार


Popular posts from this blog

राघवेंद्र सिंह तोमर नेशनल स्पोर्ट्स टाइम्स के संरक्षक संपादक बने

साई भोपाल में फिट इंडिया फ्रीडम रन का अयोजन हुआ

खेल विभाग़ ने मुन्नालाल और इकबाल को सेवानिवृत्ति पर दी भावभीनी बिदाई