कोरोना काल का सबसे सफल और सुवयवस्थित आयोजन- आदिल सुमरिवाला
भविष्य में ऐसे राष्ट्रीय आयोजन और होंगे-खेल मंत्री भोपाल। राजधानी भोपाल स्थित टी.टी. नगर स्टेडियम में 25 जनवरी से खेली जा रही 18वीं राष्ट्रीय फेडरेशन कप जूनियर एथलेटिक्स चैम्पियनशिप का बुधवार को समापन हुआ। तीन दिवसीय इस राष्ट्रीय प्रतियोगिता में 169 प्वाइंट हासिल कर हरियाणा ओवर आॅल चैम्पियन बना। साथ ही बालक एवं बालिका टीम चैम्पियनशिप भी हरियाणा राज्य के नाम रही। राष्ट्रीय फेडरेशन कप जूनियर एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में 11 स्वर्ण, 10 रजत और 4 कांस्य पदक प्राप्त कर हरियाणा प्रथम स्थान पर, 5 स्वर्ण, 2 रजत और 5 कांस्य पदकों के साथ तमिलनाडु द्वितीय तथा 3 स्वर्ण, 3 रजत और एक कांस्य पदक अर्जित कर केरल ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। 3 स्वर्ण, 2 रजत और 2 कांस्य सहित 7 पदकों के साथ मध्य प्रदेश चैथे स्थान पर रहा। प्रतियोगिता के अंतिम दिन एक राष्ट्रीय और एक मीट रिकार्ड बना। हरियाणा के खिलाड़ी अमित ने 10 हजार मीटर पैदल चाल स्पर्धा 40ः40.97 सेकेण्ड के समय में रेस पूरी कर राष्ट्रीय रिकार्ड बनाया। चैम्पियनशिप में उन्हें बेस्ट एथलीट के अवार्ड से नवाजा गया। इसी तरह बालिका वर्ग की 3 हजार मीटर दौड़ में राजस्थान की खिलाड़ी चत्रु ने 9ः45.87 सेकेण्ड का समय लेकर नया मीट रिकार्ड बनाया। चैम्पियनशिप में दिल्ली की तरनजीत कौर को बालिका वर्ग में बेस्ट एथलीट के पुरस्कार से सम्मानित किया गया। प्रदेश की खेल अकादमियों में वल्र्ड क्लास सुविधाएं समापन समारोह को संबोधित करते हुए भारतीय एथलेटिक्स महासंघ के अध्यक्ष श्री आदिल सुमरिवाला ने कहा कि भोपाल में आयोजित 18वीं राष्ट्रीय फेडरेशन कप जूनियर अंडर-20 एथलेटिक्स चैम्पियनशिप कोरोना काल का सबसे सफल और सुव्यवस्थित आयोजन है। उन्होंने खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि कोरोना प्रोटोकाल के पालन के साथ इस चुनौतीपूर्ण आयोजन को मध्य प्रदेश सरकार के सहयोग से पूरा किया गया। उन्होंने प्रदेश की खेल मंत्री मान. यशोधरा राजे सिंधिया का धन्यवाद करते हुए कहा कि भविष्य में जिला स्तर पर होने वाले प्रतिभा चयन कार्यक्रमों में एथलेटिक्स महासंघ द्वारा खेल विभाग को हर संभव सहयोग प्रदान किया जाएगा। श्री सुमरिवाला ने मध्य प्रदेश खेल अकादमियों की व्यवस्थाओं और सुविधाओं को वल्र्ड क्लास बताते हुए कहा कि भोपाल की शूटिंग सहित अन्य अकादमी और स्पोट्र्स साइंस सेंटर में खिलाड़ियों को उच्च स्तरीय खेल सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों को इस तरह की वल्र्ड क्लास सुविधाएं मिलती हैं तो खिलाड़ी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहुंचने पर मानसिक और शारीरिक मदद मिलती है। मध्य प्रदेश से भी हीमा दास जैसे अनेक खिलाड़ी देश का प्रतिनिधित्व करेंगे समारोह में खेल मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने अपने उद्बोधन में कहा कि मुझे खुशी है कि मध्य प्रदेश को 18वीं राष्ट्रीय फेडरेशन कप जूनियर अंडर-20 एथलेटिक्स चैम्पियनशिप की मेजबानी का अवसर मिला। जिसमें एथलेटिक्स महासंघ के अध्यक्ष श्री आदिल सुमरिवाला का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में इस तरह के आयोजन लगातार होते रहेंगे। इससे जहां खिलाड़ियों को प्रतिभा प्रदर्शन का अवसर मिलगा वही मध्य प्रदेश से हीमा दास जैसे अनेक स्टार खिलाड़ी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर देश का परचम फहराएंगे। उन्होंने कहा कि भविष्य में ऐसे राष्ट्रीय आयोजन लगातार होंगे। उन्होंने बताया कि मध्य प्रदेश खेल अकादमियों के माध्यम से खिलाड़ियों को मिल रही हाॅय परफारमेंस टेªनिंग की बदौलत हमारे खिलाड़ी एश्वर्य प्रताप सिंह तोमर, चिंकी यादव, हर्षिता तोमर, मेहुल कुषनानी तथा खुशप्रीत कौर जैसे खिलाड़ी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर देश और प्रदेश को गौरवान्वित कर रहें हैं। उन्होंने चैम्पियनशिप के सफल आयोजन के लिए सभी को धन्यवाद दिया और खिलाड़ियों को शुभकामनाएं दी। संचालक खेल और युवा कल्याण श्री पवन जैन ने कहा कि प्रदेश के लिए यह गौरव की बात है कि कोरोना काल के बाद सबसे बड़ी चैम्पियनशिप की मेजबानी का मध्य प्रदेश को अवसर मिला। उन्होंने कहा कि कोरोना के प्रोटोकाल का पालन करते हुए करीब 300 खिलाड़ी और 130 आॅफिशियल्स की भागीदारी वाली इस राष्ट्रीय चैम्पियनशिप का सफल आयोजन किया गया। उन्होंने इस टीम वर्क के लिए खेल संघों के पदाधिकारियों और सभी अधिकारी, कर्मचारियों का आभार जताया। मैडल सेरेमनी प्रतियोगिता के अंतर्गत आज खेले गए विभिन्न इवेन्ट्स के पदक विजेता खिलाड़ियों और टीमों को भारतीय एथलेटिक्स महासंघ के अध्यक्ष श्री आदिल सुमरिवाला तथा खेल और युवा कल्याण मंत्री मान. यशोधरा राजे सिंधिया द्वारा पदक एवं ट्राॅफी प्रदान कर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर प्रमुख सचिव खेल और युवा कल्याण श्री पंकज राग, राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्व विद्यालय के कुलपति डाॅ. सुनील कुमार, अर्जुन एवं द्रोणाचार्य अवार्डी श्री राजिन्दर सिंह, श्री जी. एल. यादव, कैप्टन दलबीर सिंह सहित अन्य खेल प्रशिक्षक, एएफआई के वाइस प्रेसीडेंट श्री मुमताज खान एवं खेल संघो के अन्य पदाधिकारी और बड़ी संख्या में खिलाड़ी मौजूद थे। विस्तृत परिणाम प्रतियोगिता के अंतर्गत बालक वर्ग की 5000 मीटर रेस में मध्य प्रदेश के खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन करते हुए स्वर्ण एवं रजत पदक पर कब्जा जमाया। मध्य प्रदेश राज्य एथलेटिक्स अकादमी के खिलाड़ी सुनील डावर ने 14ः45.76 सेकेण्ड में रेस पूरी कर स्वर्ण, अर्जुन वास्कले ने 14ः52.43 सेकेण्ड में रेस पूरी कर रजत तथा तमिलनाडु के खिलाड़ी सतीश कुमार एम. ने 15ः02.40 सेकेण्ड में रेस पूरी कर कांस्य पदक अर्जित किया। बालक वर्ग की 10000 मीटर पैदल चाल स्पर्धा में हरियाणा के खिलाड़ी अमित और परमदीप मोर ने क्रमशः पहला और दूसरा स्थान प्राप्त कर स्वर्ण और रजत पदक अपने नाम किया। अमित ने यह रेस 40ः40.97 सेकेण्ड में पूरी कर नया राष्ट्रीय रिकार्ड बनाया। पुराना रिकार्ड रांची नेशनल गेम्स, 2018 में आकाशदीप सिंह के नाम था। जबकि परमदीप मोर ने 41ः08.45 सेकेण्ड में दौड़ पूरी कर रजत पदक अर्जित किया। प्रतियोगिता का कांस्य पदक उत्तराखण्ड के खिलाड़ी परमजीत सिंह विष्ट के नाम रहा। उन्होंने यह रेस 42ः10.92 सेकेण्ड में पूरी की। बालक वर्ग की 6.00 किलोग्राम हेमर थ्रो स्पर्धा में उत्तर प्रदेश के खिलाड़ी मो. ताबिश ने 60.62 मीटर हेमर थ्रो कर स्वर्ण, उत्तर प्रदेश के ही मुकुल ने 57.52 मीटर हेमर थ्रो कर रजत तथा मध्य प्रदेश के दिवाकर कुमार पाण्डे ने 57.01 मीटर थ्रो कर कांस्य पदक अर्जित किया। बालिका वर्ग की 3000 मीटर रेस में राजस्थान की खिलाड़ी चत्रु ने 9ः45.87 सेकेण्ड का समय लेकर नया मीट रिकार्ड बनाया और स्वर्ण पदक अर्जित किया। पुराना मीट रिकार्ड चेन्नई नेशनल गेम्स में 9ः47.28 सेकेण्ड का समय लेकर संजवानी जाधव ने बनाया था। उत्तर प्रदेश की खिलाड़ी रैबी पाल ने 9ः47.21 सेकेण्ड का समय लेकर रजत पदक तथा झारखण्ड की खिलाड़ी सुप्रीति कच्छप ने 9ः57.36 सेकेण्ड में रेस पूरी कर कांस्य पदक अर्जित किया। बालिका वर्ग ट्रिपल जम्प इवेन्ट में तमिलनाडु की खिलाड़ी बबिशा पी. ने 12.52 मीटर कूदकर स्वर्ण पदक, महाराष्ट्र की खिलाड़ी शरवरी अविनाश पारूली ने 12.43 मीटर कूदकर रजत पदक तथा हरियाणा की खिलाड़ी हेमा ने 12.23 मीटर कूदकर कांस्य पदक अर्जित किया। बालिका वर्ग की 4.00 किलोग्राम हेमर थ्रो का स्वर्ण पदक राजस्थान की खिलाड़ी भगवती चैधरी ने 52.33 मीटर थ्रो कर जीता। हरियाणा की खिलाड़ी एशवर्या ने 48.30 मीटर थ्रो कर रजत पदक तथा पंजाब की खिलाड़ी अमनदीप कौर ने 42.91 मीटर हेमर थ्रो कर कांस्य पदक अर्जित किया। बालक वर्ग की ट्रिपल जम्प स्पर्धा का स्वर्ण पदक तमिलनाडु के खिलाड़ी प्रवीण चित्रावल ने 16.01 मीटर कूदकर अर्जित किया और नया मीट रिकार्ड बनाया। पुराना मीट रिकार्ड हैदराबाद नेशनल गेम्स, 2015 में अब्दुल्ला अबुबाकर ने 15.91 मीटर कूदकर बनाया था। हरियाणा के खिलाड़ी भूपिंदर सिंह ने 15.81 मीटर कूदकर रजत पदक तथा केरल के खिलाड़ी अखिल कुमार सी.डी. ने 15.80 मीटर जम्प कर कांस्य पदक अर्जित किया। प्रतियोगिता के अंतर्गत बालक वर्ग की 400 मीटर बाधा दौड़ का स्वर्ण पदक कर्नाटक के खिलाड़ी रक्षित ने 0ः53.78 सेकेण्ड में पूरी कर जीता। केरल के खिलाड़ी सूर्यजीत आर.के. ने यह दौड़ 0ः53.83 सेकेण्ड में पूरी कर रजत पदक तथा महाराष्ट्र के खिलाड़ी रोहन गौतम कांबले ने 0ः54.72 सेकेण्ड में पूरी कर कांस्य पदक अर्जित किया। बालिका वर्ग की 800 मीटर रेस का स्वर्ण और रजत पदक हरियाणा की खिलाड़ी पूजा और मेघा ने अर्जित किया। पूजा ने यह दौड ़2ः11.51 सेकेण्ड तथा मेघा ने 2ः15.46 सेकेण्ड में पूरी की। प्रतियोगिता का कांस्य पदक उत्तर प्रदेश की खिलाड़ी सपना राय ने 2ः16.77 सेकेण्ड में रेस पूरी कर अर्जित किया। बालिका वर्ग की जेवलीन थ्रो स्पर्धा में पश्चिम बगाल की खिलाड़ी उजाला कुमारी सिंह ने 41.55 मीटर भाला फंेककर स्वर्ण पदक, हरियाणा की खिलाड़ी हरिता ने 40.25 मीटर थ्रो कर रजत पदक तथा हरियाणा की ही तनु ने 40.18 मीटर जेवलीन थ्रो कर कांस्य पदक अर्जित किया। बालिका वर्ग की 200 मीटर रेस का स्वर्ण पदक दिल्ली की खिलाड़ी तरनजीत कौर ने 0ः24.11 सेकेण्ड में रेस पूरी कर अपने नाम किया। जबकि केरल की खिलाड़ी अनसीसोजन सोजन ई. ने 0ः24.24 सेकेण्ड में पूरी कर रजत पदक तथा दिल्ली की खिलाड़ी पायल वोहरा ने 0ः24.57 सेकेण्ड में पूरी कर कांस्य पदक अर्जित किया। बालक वर्ग की 200 मीटर रेस कर्नाटक के खिलाड़ी अभिन बी. देवडिगा ने 0ः21.50 सेकेण्ड में पूरी कर स्वर्ण पदक अर्जित किया। रजत पदक तेलंगाना के खिलाड़ी अनिकेत चैधरी ने 0ः21.97 सेकेण्ड में पूरी कर जीता। जबकि दिल्ली के खिलाड़ी सात्विक वर्मा ने 0ः22.12 सेकेण्ड में रेस पूरी कर कांस्य पदक जीता। बालक वर्ग की 6.00 किलोग्राम शाॅट पुट प्रतियोगिता में उत्तर प्रदेश के खिलाड़ी सौरभ मिश्रा ने 18.68 मीटर शाॅट पुट कर स्वर्ण, पंजाब के खिलाड़ी अमनदीप सिंह ढ़लवा ने 18.67 मीटर शाॅट पुट कर रजत तथा उत्तर प्रदेश के खिलाड़ी रूद्र नारायण पाण्डे ने 18.21 मीटर शाॅट पुट कर कांस्य पदक अर्जित किया। बालिका वर्ग की 400 मीटर हर्डल रेस में केरल की खिलाड़ी विष्णु प्रिया जे. ने 1ः02.57 सेकेण्ड समय में स्वर्ण, महाराष्ट्र की खिलाड़ी श्वेता सतप्पा चिकोड़ी ने रजत तथा तमिलनाडु की खिलाड़ी विश्रुता सी. ने 1ः02.78 सेकेण्ड का समय लेकर कांस्य पदक अर्जित किया। बालक वर्ग की 800 मीटर रेस का स्वर्ण पदक तमिलनाडु के खिलाड़ी श्री किरण ने 1ः54.06 सेकेण्ड में दौड़ पूरी कर जीता। रजत पदक उत्तर प्रदेश के खिलाड़ी इरफान ने 1ः54.85 सेकेण्ड में रेस पूरी कर अर्जित किया। कर्नाटक के खिलाड़ी मिलन एमसी. ने 1ः55.12 सेकेण्ड में रेस पूरी कर कांस्य पदक जीता।