एशियाटिक पर्ल टूर्नामेंटः भारतीय मुक्केबाजों का शानदार प्रदर्शन से 12 मेडल किए अपने नाम
नई दिल्ली |एशियाई युवा स्वर्ण पदकधारी बेबीरोजिसाना चानू (51 किग्रा) और विंका (60 किग्रा) ने मोंटेनेग्रो के बुदवा में 30वें एड्रियाटिक पर्ल टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में पहुंचकर मेडल पक्के कर लिए। मणिपुर की चानू एमसी मैरीकोम एकेडमीे ट्रेंनिग करती हैं, उन्होंने शुरू से ही बुल्गारिया की जार्जिवा ब्लागोवेस्टा पर दबदबा बनाया जिससे रैफरी को पहले राउंड में ही मुकाबला रोकना पड़ा। अब वह सेमीफाइनल में उज्बेकिस्तान की फेरूजा काजाकोवा से भिड़ेंगी। विंका ने क्वार्टरफाइनल मुकाबले में उज्बेकिस्तान की सेवारा एशुरोवा के खिलाफ आक्रामक प्रदर्शन किया। यह युवा मुक्केबाज सेमीफाइनल में अब फिनलैंड की सुवी तुजुला के सामने होंगी। एशिया की 2018 में सर्वश्रेष्ठ महिला जूनियर मुक्केबाज अरूधंती चौधरी (69 किग्रा) ने भी शानदार तरीके से अपना अभियान शुरू किया और फिनलैंड की एवेलिना तैमी को 5-0 से हराकर ब्रोंज मेडल पक्का कर लिया। हालांकि भारतीय पुरूषों के लिए दिन कठिन रहा। अराम्बाम नाओबा सिंह (52 किग्रा), सुमित (69 किग्रा) और विशाल गुप्ता (91 किग्रा) गुरूवार को अपना क्वार्टर फाइनल मुकाबला हार गये। जुगनू (91 किग्रा से अधिक) वाकओवर की बदौलत सेमीफाइनल में पहुंच गए। महिला मुक्केबाजों में नेहा (54 किग्रा) और सनामाचा चानू थोकचोम (75 किग्रा) फाइनल में पहुंचने की दौड़ में हैं।अलफिया पठान (81 किग्रा से अधिक) स्वर्ण पदक के लिए मोलदोवा की दारिया कोजोरेव से भिड़ेंगी। प्रीति (57 किग्रा) और लकी राणा (64 किग्रा) भी सेमीफाइनल में पहुंच गयी हैं जबकि गीतिका (48 किग्रा) और राज साहिबा (75 किग्रा) अपने वर्गों के फाइनल खेलेंगी। पुरूषों में प्रियांशु डबास (49 किग्रा) और जुगनू (91 किग्रा से अधिक) ने कम से कम कांस्य पदक सुनिश्चित कर लिये हैं। लाइव हिन्दुस्तान से साभार