दिन का खेल खत्म होने तक इंग्लैंड का स्कोर 53/3, भारत की स्थिति मजबूत
नई दिल्ली। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 4 मैच की सीरीज का दूसरा टेस्ट चेन्नई के एमए चिदंबरम स्टेडियम में खेला जा रहा है। तीन दिन का खेल हो चुका है। तीसरे दिन इंग्लैंड ने दूसरी पारी में 19 ओवर में 3 विकेट पर 53 रन बना लिए थे। इंग्लैंड को यह मैच जीतने के लिए अभी 429 रन और बनाने हैं, जबकि उसके तीन विकेट गिरना शेष हैं। तीसरे दिन का खेल खत्म होने के समय जो रूट 2 और डेनियल लॉरेंस 19 रन बनाकर नाबाद थे। भारत की ओर से अक्षर पटेल 2 और रविचंद्रन अश्विन एक विकेट ले चुके हैं। इंग्लैंड ने दूसरे और तीसरे विकेट 7 गेंद के भीतर गंवाए। अक्षर पटेल ने 17वें ओवर की आखिरी गेंद पर जैक लीच को रोहित शर्मा के हाथों कैच कराया। जैक लीच खाता भी नहीं खोल पाए। लीच जब पवेलियन लौटे तब इंग्लैंड के खाते में 50 रन जुड़े थे। रविचंद्रन अश्विन ने 16वें ओवर की आखिरी गेंद पर रोरी बर्न्स को विराट कोहली के हाथों कैच कराया। रोरी बर्न्स 42 गेंद में 25 रन बनाकर आउट हुए। उन्होंने अपनी पारी के दौरान चार चौके लगाए। बर्न्स जब आउट हुए तब इंग्लैंड के खाते में 49 रन जुड़े थे। अक्षर पटेल 9वां ओवर लेकर आए। उन्होंने दूसरी गेंद पर डोमिनिक सिब्ले को एलबीडब्ल्यू कर दिया। सिब्ले 25 गेंद खेलकर सिर्फ 3 रन ही बना पाए। उनकी जगह डेनियल लॉरेंस बल्लेबाजी के लिए आए। सिब्ले जब पवेलियन लौटे तो इंग्लैंड के खाते में 17 रन ही जुड़े थे। अश्विन के दम भारत ने दूसरी पारी में बनाए 286 रन भारत की दूसरी पारी 85.5 ओवर में 286 रन पर ऑलआउट हुई। आखिरी आउट होने वाले बल्लेबाज रविचंद्रन अश्विन रहे। उन्होंने 148 गेंद की अपनी पारी में 14 चौके और एक छक्के की मदद से 106 रन बनाए। उन्होंने ओली स्टोन ने 86वें ओवर की पांचवीं गेंद पर बोल्ड किया। मोहम्मद सिराज 21 गेंद में 16 रन बनाकर नाबाद रहे। इंग्लैंड की ओर से मोइन अली ने 98 और जैक लीच ने 100 रन देकर 4-4 विकेट लिए। रविचंद्रन अश्विन ने टेस्ट में लगाया पांचवीं बार शतक रविचंद्रन अश्विन ने टेस्ट क्रिकेट का अपना पांचवां शतक लगाया। अश्विन ने दूसरी पारी में 5 विकेट भी लिए थे। इसके साथ ही उन्होंने गैरी सोबर्स, मुस्ताक मोहम्मद, जैक्स कैलिस और शाकिब अल हसन को पीछे छोड़ दिया। वह टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा बार 5 विकेट लेने के साथ-साथ शतक लगाने के मामले में दूसरे नंबर पर पहुंच गए हैं। उन्होंने तीसरी बार यह उपलब्धि अपने नाम की है। जनसत्ता से साभार