भारतीय महिला हॉकी टीम ने अर्जेंटीना से ड्रॉ खेला, जीत के बिना खत्म दौरा
ब्यूनस आयर्स | भारतीय महिला हॉकी टीम ने बेहतर प्रदर्शन करते हुए अर्जेंटीना दौरे का अंत मेजबान के खिलाफ 1-1 से ड्रॉ के साथ किया। दुनिया की दूसरे नंबर की टीम के खिलाफ कप्तान रानी ने 35वें मिनट में गोल दागा जबकि मेजबान के लिए एमिलिया फोरचेरियो ने पेनल्टी स्ट्रोक पर गोल किया। यह भारतीय टीम का चौथा मैच था जबकि तीसरा मैच लगातार बारिश के कारण रद्द कर दिया गया था। इससे पहले भारत ने अर्जेंटीना की जूनियर टीम से 2-2 और 1-1 से ड्रॉ खेला जबकि अर्जेंटीना की बी टीम से 1-2, 2-3 से हार गई। अर्जेंटीना की सीनियर टीम के खिलाफ भारत पहले दो मैच 2-3, 0-2 से हार गई थी। आखिरी मैच में भारतीय टीम जीत के लिए कमर कसकर उतरी थी लेकिन अनुभवी मेजबान टीम ने उसके मंसूबों पर पानी फेर दिया। मेजबान ने पहले क्वार्टर से ही हमले बोलने शुरू कर दिए जिससे भारतीय डिफेंस पर दबाव बन गया। अर्जेंटीना ने पहले क्वार्टर के तीन मिनट के भीतर दो पेनल्टी कॉर्नर बनाए। भारतीय गोलकीपर सविता ने हालांकि दोनों पर गोल नहीं होने दिए। भारत को 11वें मिनट में मिला पेनल्टी कॉर्नर बेकार गया। दूसरे क्वार्टर में तीन मिनट बाद रानी को एक और मौका मिला जब अनुभवी वंदना कटारिया ने उनकी मदद की लेकिन भारतीय कप्तान अर्जेंटीना के डिफेंस को नहीं भेद सकी। अर्जेंटीना ने 23वें और 24वें मिनट में पेनल्टी कॉर्नर बनाए लेकिन सविता ने गोल नहीं होने दिए। तीसरे क्वार्टर में एक बार फिर वंदना की मदद से रानी ने गोल किया। भारत को 39वें और 50वें मिनट में बढ़त दुगुनी करने का मौका मिला लेकिन दोनों मौके गंवा दिए। दूसरी ओर अर्जेंटीना लगातार हमले बोलती रही और 55वें मिनट में उसे पेनल्टी स्ट्रोक मिल गया। फोरचेरियो ने इस पर बराबरी का गोल दागा। भारत ने 56वें और 59वें मिनट में फिर पेनल्टी कॉर्नर गंवाए लेकिन उन पर गोल नहीं हो सका। भारत के मुख्य कोच शोर्ड मारिन ने कहा कि एक गोल से बढ़त लेने के बाद हमें संयम से खेलना चाहिए था। हमें और चतुराई से खेलना चाहिए था और इस पर मेहनत करनी पड़ेगी। लाइव हिन्दुस्तान से साभार