तेज गेंदबाजों के लिए रोटेशन नीति पर काम कर रहा है पाकिस्तान
कराची | क्रिकेट के ज्यादा मैचों को देखते हुए पिछले कुछ समय से तमाम टीमें रोटेशन पॉलिसी को अपनाने लगी हैं। दुनिया के तमाम क्रिकेटर्स इंटरनैशनल और लीग मैचों में हिस्सा लेते रहते हैं और इसके चलते उन्हें अपने लिए समय नहीं मिल पाता है। लगातार बिना ब्रेक के खेलते रहने से खिलाड़ियों के लिए इंजरी का खतरा भी बढ़ जाता है और ऐसे में लगातार अच्छ प्रदर्शन करना भी मुश्किल हो जाता है। ऐसे में तमाम टीमें अपने खिलाड़ियों के वर्कलोड मैनेजमेंट पर काफी ध्यान देने लगी हैं। पाकिस्तान के बॉलिंग कोच वकार युनूस ने कहा कि नैशनल टीम मैनेजमेंट तेज गेंदबाजों के लिए रोटेशन पॉलिसी पर काम कर रहा है। पूर्व कप्तान और तेज गेंदबाज वकार ने स्वीकार किया कि 2021 से 2023 के बीच पाकिस्तान को इतना इंटरनैशनल क्रिकेट खेलना है कि वर्कलोड मैनेजमेंट जरूरी है। उन्होंने कहा, 'हमारी मेडिकल पैनल, ट्रेनर और मैं खुद तेज गेंदबाजों की फिटनेस और वर्कलोड पर नजर रखे हुए हूं। जल्दी ही पाकिस्तान सुपर लीग और कई इंटरनैशनल टूर्नामेंट होने हैं। इसके लिए उनका वर्कलोड मैनेजमेंट जरूरी है।'उन्होंने कहा, 'हम दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टी20 सीरीज के कुछ मैचों में शाहीन शाह अफरीदी को आराम दे सकते हैं, क्योंकि वह सभी फॉर्मैट में लगातार खेल रहे हैं।' भारत, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया जैसे टीमें भी खिलाड़ियों को वर्कलोड मैनेजमेंट पर लगातार काम कर रही हैं। लाइव हिन्दुस्तान से साभार