शॉटगन वर्ल्डकप:भारत ने जीते दो मेडल; महिला टीम ने शॉटगन में जीता सिल्वर मेडल
काहिर। भारतीय महिला ट्रैप शूटरों ने साल के पहले वर्ल्डकप में क्वॉलिफिकेशन राउंड में 444 अंक हासिल कर फाइनल के लिए क्वॉलिपुाई किया। भारतीय महिला ट्रैप शूटरों ने साल के पहले वर्ल्डकप में क्वॉलिफिकेशन राउंड में 444 अंक हासिल कर फाइनल के लिए क्वॉलिपुाई किया। काहिरा में चल रहे शॉटगन वर्ल्ड कप में भारतीय महिला ट्रैप टीम ने सिल्वर मेडल जीता है। साल के पहले वर्ल्डकप में भारतीय टीम ने दो मेडल जीते हैं। महिला ट्रैप से पहले पुरुष स्कीट टीम ने ब्रॉन्ज मेडल जीता था। भारतीय महिला ट्रैप टीम में कीर्ति, राजेश्वरी कुमारी और मनीषा शामिल थीं। रूस को मिला गोल्ड भारतीय टीम को रूसी टीम से 6-4 से हार का सामना करना पड़ा। रूसी शूटर एकाटेरिना सबबोटिना, डारिया सेमियानोवा और इउलिया सेवलेवा ने बेहतर प्रदर्शन करते हुए फाइनल में 4-0 की बढ़त हासिल कर ली थी। भारतीय शूटरों ने वापसी करते हुए 4-4 की बराबरी की, लेकिन आखिरी 15 शॉट में रूसी शूटरों ने बेहतर प्रदर्शन किए और भारतीय शूटरों को सिल्वर से संतुष्ट होना पड़ा। क्वॉलिफिकेशन राउंड में 444 अंक भारतीय शूटरों ने क्वॉलिफिकेशन राउंड में 444 अंक हासिल कर फाइनल के लिए क्वॉलिफाई किया। जबकि रूसी टीम ने 463 का स्कोर कर फाइनल में एंट्री की। भारतीय शूटरों में सबसे ज्यादा अंक 158 मनीषा कीर के थे। भारतीय पुरुष टीम छठे स्थान पर रही वहीं भारतीय मेंस ट्रैप टीम छठे स्थान पर रही। भारतीय टीम में ओलिंपियन क्यानन चेनई, एशियन गेम्स में सिल्वर मेडल जीत चुके लक्ष्य श्योराण और पृथ्वीराज टोंडिमन शामिल थे। तीनों ने 469 के अंक हासिल किए। ट्रैप मिक्सड टीम फाइनल में पहुंचने से चूकी राजेश्वरी कुमारी और लक्ष्य श्योरण की जोड़ी ट्रैप मिक्स्ड टीम इवेंट के अंतिम दौर में पहुंचने से चूक गई। राजेश्वरी और लक्ष्य ने बुधवार रात को आयोजित तीसरे और अंतिम क्वालीफाइंग राउंड में दूसरे स्थान पर रहते हुए सबको प्रभावित किया, लेकिन तीसरे राउंड में 21 अंक के साथ वह छठे स्थान पर खिसक गए और मेडल की होड़ से बाहर हो गए। दैनिक भास्कर से साभार